Supreme Court Ke 85 Aitihasik Judgments For UPSC and State Civil Services Examination, Interview, CLAT and Judicial Examinations (Hindi Edition)

Supreme Court Ke 85 Aitihasik Judgments For UPSC and State Civil Services Examination, Interview, CLAT and Judicial Examinations (Hindi Edition)

41G8YXZeSSL
Price: ₹81.42
(as of Mar 23, 2024 16:50:10 UTC – Details)

buy now

Supreme Court Ke 85 Aitihasik Judgments “सुप्रीम कोर्ट के 85 ऐतिहासिक जजमेंट्स” For UPSC and State Civil Services Examination, Interview, CLAT and Judicial Examinations Book in Hindi

सर्वोच्च न्यायालय जो व्याख्या करता है, वही देश का कानून होता है। इस पुस्तक में सर्वोच्च न्यायालय के 85 ऐतिहासिक निर्णयों के माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय द्वारा स्थापित विधि की व्यवस्था को प्रस्तुत किया गया है । विषय का हिंदी में रूपांतरण अत्यंत जटिल है, अत: सामान्य जन की समझ के लिए प्रथमत: तथ्यों को लिया गया है, फिर निर्णय का मुख्य अंश तथा अंत में मैंने अपना मंतव्य दिया है । सिविल सर्विसेज प्रतियोगितात्मक परीक्षा के लिए, अभ्यर्थी का मंतव्य अत्यंत महत्त्वपूर्ण होता है। प्रयास किया गया है कि समानता के मूल अधिकार से लेकर वर्तमान काल में भूमि सुधार एवं आर्थिक मामलों पर भी सर्वोच्च न्यायालय की व्यवस्था प्रकाश में आए ।

परिशिष्टों में अधिकांश महत्त्वपूर्ण विषयों पर निर्णयों की सूची तथा सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अपने ही निर्णयों में परिवर्तन की सूची भी दी गई है। बीच-बीच में संविधान के मुख्य-मुख्य प्रावधानों को भी रेखांकित किया गया है ताकि संविधान के उन प्रावधानों से संबंधित निर्णयों को समझने के लिए संविधान की किताब को न खोलना पड़े।

आशा है कि सर्वोच्च न्यायालय के निर्णयों के हिंदी में इस सरल एवं सुलभ प्रस्तुतीकरण का समान रूप से एडवोकेट, विधि-सलाहकार, विद्यार्थियों तथा प्रतियोगी परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थियों द्वारा स्वागत होगा।

From the Publisher

Supreme Court Ke 85 Aitihasik JudgmentsSupreme Court Ke 85 Aitihasik Judgments

Supreme Court Ke 85 Aitihasik JudgmentsSupreme Court Ke 85 Aitihasik Judgments

ASIN ‏ : ‎ B0CHYVJJCZ
Publisher ‏ : ‎ Prabhat Prakashan (13 September 2023)
Language ‏ : ‎ Hindi
File size ‏ : ‎ 15385 KB
Text-to-Speech ‏ : ‎ Not enabled
Enhanced typesetting ‏ : ‎ Not Enabled
Word Wise ‏ : ‎ Not Enabled

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *